Dashpurdisha

Search
Close this search box.

Follow Us:

नर्सिंग कॉलेजों से घूस लेकर सूटेबल रिपोर्ट देने के मामले में अब तक 31 जगह CBI की छापेमारी, 23 के खिलाफ FIR

मन्दसौर । प्रदेश के नर्सिंग घोटाले की जांच में घोटाला सामने आया है। नर्सिंग कॉलेज फर्जीवाड़े की जांच में जुटी सीबीआई ने कॉलेजों को क्लीन चिट देने की कोशिश में जुटे अपने ही अफसरों, बिचौलियों व अन्य पर बड़ी कार्रवाई की है। सीबीआई ने शनिवार और रविवार को मध्य प्रदेश और राजस्थान में छापामार कार्रवाई की थी। इसमें 29 लोगों के खिलाफ केस दर्ज किया गया है। वहीं, सीबीआई के चार अधिकारियों समेत 13 लोगों को गिरफ्तार किया गया। इनको कोर्ट के सामने पेश किया गया। कोर्ट ने सभी को 29 मई तक रिमांड पर सीबीआई को सौंप दिया। सीबीआई की तरफ से मिली जानकारी में बताया गया है कि मप्र हाईकोर्ट के निर्देश पर मध्य प्रदेश के नर्सिंग कॉलेजों की जांच के लिए सीबीआई और एसीबी भोपाल की सात कोर टीम बनाई गई थी। वहीं, तीन से चार अन्य टीमें जांच में मदद करने के लिए बनाई गई थीं। टीम में सीबीआई के अधिकारी, मध्य प्रदेश नर्सिंग कॉलेज के नामित सदस्य और पटवारी शामिल थे। इस टीम का काम हाईकोर्ट के निर्देश पर यह जांचना था कि क्या नर्सिंग कॉलेज बुनियादी सुविधाओं और संकाय के संबंध में नर्सिंग कॉलेजों के लिए निर्धारित मानदंडों और मानकों को पूरा करते हैं?

सबसे पहले निरीक्षक राहुल राज को दबोचा
अलग-अलग टीमें यह जांच कर रही थीं। इस दौरान सीबीआई के निरीक्षक राहुल राज के भ्रष्टाचार की गतिविधियों में शामिल होने का संदेह हुआ। राहुल राज नर्सिंग घोटाले में शामिल कॉलेज संचालकों से मिलीभगत कर उनके पक्ष में रिपोर्ट बनाकर दे रहा था और बदले में रिश्वत ले रहा था।

सीबीआई के तीन अफसर रिश्वतखोरी में शामिल
इसके बाद सीबीआई की आंतरिक विजिलेंस टीम सक्रिय हुई और 23 लोगों के खिलाफ केस दर्ज किया। इसमें इंस्पेक्टर राहुल राज समेत सीबीआई के तीन अधिकारी भी शामिल हैं। इसके बाद सीबीआई ने राहुल राज को 10 लाख की रिश्वत लेते हुए गिरफ्तार किया। साथ ही रिश्वत देने वाले अनिल भास्करन और उसकी पत्नी सुमा अनिल भास्करन को भी पकड़ा।
इंदौर,भोपाल,रतलाम से लेकर जयपुर तक छापे
सीबीआई की दिल्ली टीम ने भोपाल, इंदौर, रतलाम और राजस्थान के जयपुर में 31 जगह छापेमारी की। इस दौरान सीबीआई ने 2 करोड़ 33 लाख रुपये नगद, चार सोने के बिस्किट, 36 डिजिटल डिवाइस और 150 मामले से जुड़े दस्तावेज जब्त किए।

इन्हें किया गिरफ्तार
सीबीआई की तरफ से बताया कि मामले में 13 आरोपियों को गिरफ्तार किया गया है, जिनमें राहुल राज, इंस्पेक्टर, सीबीआई, सुशील कुमार मजोका, इंस्पेक्टर, एमपी पुलिस शामिल हैं, जो सीबीआई से जुड़े हुए हैं और दलाल के रूप में काम कर रहे ओम गोस्वामी, रवि भदौरिया और जुगल किशोर और तीन महिलाओं को गिरफ्तार किया गया है। गिरफ्तार किए गए सभी आरोपियों को कोर्ट के सामने पेश किया गया, जिनको कोर्ट ने 29 मई तक सीबीआई की हिरासत में भेज दिया। सीबीआई ने रिश्वतखोरी में लिप्त अधिकारियों के खिलाफ प्रशासनिक कार्रवाई भी शुरू कर दी है।

Admin
Author: Admin

Spread the love

यह भी पढ़ें

टॉप स्टोरीज