Dashpurdisha

Search
Close this search box.

Follow Us:

दि इंस्टीट्यूट ऑफ चार्टर्ड अकाउंटेंट्स ऑफ इंडिया की मन्दसौर शाखा द्वारा वर्कशॉप आयोजित

नवीन तकनीकों के उपयोग से ऑडिट कार्य में और भी गुणवत्ता संभव

मन्दसौर। हमारे देश के चार्टर्ड अकाउंटेंट पिछले 75 वर्षों से अपनी बुद्धिमत्ता व तकनीकी ज्ञान के आधार पर अंकेक्षण कार्य को पूर्ण निष्ठा के साथ सम्पन्न करते आ रहे हैं। टैक्नालाॅजी के इस दौर में हम आर्टिफिशियल इंटेलीजेंस के उपयोग से अपने कार्य की गुणवत्ता को कई गुना बढ़ा सकते हैं, साथ ही इन माध्यमों के प्रयोग से हमारी कार्यक्षमता में भी अप्रत्याशित वृद्धि कर सकते हैं। इसके लिये यह आवश्यक है कि हम अपने आपको निरन्तर नयी तकनीक सीखने हेतु प्रवृत्त करें ताकि विश्व पटल पर हम अपने आपको स्थापित करने में कामयाब हो सकें।
उक्त विचार दि इंस्टीट्यूट ऑफ चार्टर्ड अकाउंटेंट्स ऑफ इंडिया के सेंट्रल कौंसिल सदस्य व कमेटी फार मेम्बर्स इन प्रेक्टिस के चेयरमेन सीए रोहित रूहातिया ने दि इंस्टीट्यूट ऑफ चार्टर्ड अकाउंटेंट्स ऑफ इंडिया की मन्दसौर शाखा द्वारा आयोजित वर्कशाप को संबोधित करते हुए व्यक्त किये।
कार्यक्रम को संबोधित करते हुए जयपुर से पधारे वक्ता सीए रोहित प्रधान ने बताया कि कंप्यूटर प्रोग्राम व एप्लीकेशन के माध्यम से किस प्रकार ऑफिस के कार्यों को सहजता व गुणवत्ता से सम्पन्न किया जा सकता है। आपने मोबाइल फोन में उपलब्ध विभिन्न एप्लीकेशन के ऑफिस के कार्यों में उपयोग व उनके माध्यम से कार्यकुशलता में वृद्धि के बारे में भी सदस्यों को जानकारी प्रदान की।
कार्यक्रम के वक्ता सीए राजेश मंडवारिया ने अपने उद्बोधन में बताया कि चार्टर्ड अकाउण्टेन्ट सदस्यों के लिये किन किन क्षेत्रों में प्रचुर संभावनाए हैं। चार्टर्ड अकाउण्टेन्ट अपने क्लाइंट की आर्थिक व निवेश योजनाओं में सलाह देकर किस प्रकार उनके पोर्टफोलियो को सुदृढ़ और अधिक से अधिक फायदा देने वाला बना सकते हैं।
कार्यक्रम के प्रारंभ में संबोधित करते हुए ब्रांच के चेयरमेन सीए दिनेश जैन ने बताया कि पिछले 6 माह के समय में ही ब्रांच ने अनेक शैक्षणिक सेमिनार आयोजित किये हैं, जिसका लाभ मंदसौर के सीए सदस्यों को मिलेगा। आगामी कुछ दिनों में भी आयकर व जीएसटी विषय पर सेमिनार का आयोजन होने जा रहा है जिसमें मुंबई के विषय विशेषज्ञ अपने ज्ञान की गंगा मंदसौर के सदस्यों के लिये लेकर आ रहे हैं। आपने आव्हान किया कि अधिक से अधिक सदस्य इन सेमिनार व वर्कशॉप का लाभ उठाकर अपनी प्रैक्टिस को और अधिक गुणवत्ता पूर्ण बनायें।
अतिथि परिचय सीए विरेन्द्र जैन व सीए सुबोध सिंहल ने किया। अतिथियों का स्वागत व प्रतीक चिन्ह भेंट सीए अर्पित नागदा, विनय अग्रवाल, रितेश पारिख, नितेश भदादा, अंकुश जैन आदि ने किया। कार्यक्रम का संचालन सीए मयंक जैन ने किया। आभार प्रदर्शन सचिव सीए विकास भंडारी ने किया।

Admin
Author: Admin

Spread the love

यह भी पढ़ें

टॉप स्टोरीज