Dashpurdisha

Search
Close this search box.

Follow Us:

कोरोना काल में बनाया अस्थायी मंदिर बना लोगों की श्रद्धा का केन्द्र

मुनिसुव्रतनाथ चैत्यालय का स्थापना दिवस मनाया गया

मन्दसौर। मेघदूत नगर में तीन वर्ष पूर्व स्थापित किये गये दिगम्बर जैन चैत्यालय का स्थापना दिवस हर्षाेल्लास के साथ मनाया गया।
सन् 2021 में कोरोनाकाल में बीसवें तीर्थंकर 1008 भगवान श्री मुनिसुव्रतनाथ स्वामी की प्रतिमा को विराजमान कर पं. श्री विजयकुमार नेमकुमार गांधी परिवार द्वारा चैत्यालय बनवाया गया। श्रीमति नाजुक देवी गांधी के नित्य देव दर्शन का नियम होने के कारण, कोविड काल में मंदिर जाकर दर्शन नहीं कर पा रहे थे अतः अपने ही निवास स्थान के समीप अपनी ही भूमि पर अष्टधातु की भगवान मुनिसुव्रतनाथ स्वामी की प्रतिमा विराजमान कर छोटा सा मंदिर बना लिया गया था।
डॉ. चंदा भरत कोठारी ने यह जानकारी देते हुए बताया कि यद्यपि यह मंदिर कोरोनाकाल के लिए ही बनाया गया था परन्तु मेघदूत व यश नगर कालोनी में दिगम्बर जिनालय नहीं होने से बड़ी संख्या में समाजजन प्रतिदिन यहां दर्शन पूजन के लिए आने लगे। लोगों की श्रद्धा व आवश्यकता को देखते हुए गांधी परिवार ने लघु जिनालय को यथावत रखने का निर्णय लिया।
शनिवार को जिनालय के तीन वर्ष पूर्ण होने पर स्थापना दिवस मनाते हुए आर्यिका स्वस्तिभूषणमति माताजी द्वारा रचित मुनिसुव्रतनाथ पूजन विधान का आयोजन किया गया। 108 रिद्धिमंत्रों के जाप कर अर्घ्य चढ़ाए गए तथा जिनेन्द्र प्रभु की आरती, शांतिपाठ व मुनिसुव्रतनाथ चालीसा का सामूहिक पाठ किया गया।
श्री नेमकुमार पूजा गांधी ने इस अवसर पर शीघ्र ही भव्य मंदिर एवं संत निवास का निर्माण कराए जाने की घोषणा की ।
इस अवसर पर सर्वश्री विजयेन्द्र कुमार सेठी, भरतकुमार कोठारी व कमल विनायका ने गांधी परिवार का स्वागत करते हुए अनुमोदना की।
आयोजन में श्री निर्मलकुमार जैन, दिनेश जैन, पवन काला, मनोज सेठी, नीरज जैन, कीर्ति सेठी,अशोक पाटनी, संजय पाटनी, रवि विनायका,नरेश पाटनी आदि बड़ी संख्या में समाजजन उपस्थित हुए।

Admin
Author: Admin

Spread the love

यह भी पढ़ें

टॉप स्टोरीज