Dashpurdisha

Search
Close this search box.

Follow Us:

नर्सिंग कॉलेज घोटाला – सीबीआई जांच में मंदसौर जिले के चार निजी कॉलेज सूटेबल जबकी शासकीय नर्सिंग कॉलेज को बताया डिफिशिएंट

हाईकोर्ट के आदेश पर हुई मध्यप्रदेश के 364 नर्सिंग कॉलेजों की जांच

दशपुर दिशा । योगेश पोरवाल

मन्दसौर । मध्यप्रदेश हाईकोर्ट जबलपुर में प्रदेश के नर्सिंग कॉलेजो की मान्यता में चल रहे फर्जीवाड़े और प्रदेश में तेजी से खुले बोगस नर्सिंग कॉलेजों को लेकर एक याचिका लॉ स्टूडेंट्स एसोसिएशन के प्रदेशाध्यक्ष विशाल बघेल द्वारा दायर की गई थी । पिटीशन क्रमांक 1080/2022, 5841/2022 सहित अन्य की सुनवाई करते हुए हाईकोर्ट ने प्रदेश के सभी नर्सिंग कॉलेजों की जांच सीबीआई से करवाई जाने का आदेश दिया था ।
सीबीआई ने प्रदेश के निजी तथा शासकीय नर्सिंग कॉलेजों की विधिवत जांच कर 364 नर्सिंग कॉलेजों की रिपोर्ट बंद लिफाफे में दिनांक 17/01/2024 को हाईकोर्ट के समक्ष प्रस्तुत की थी । सीबीआई ने जांच में 169 कॉलेजों को उपयुक्त, 74 को न्यूनतम कमी यानी सुधार योग्य जबकि 65 नर्सिंग कॉलेजों को अनुपयुक्त पाया था ।
लम्बे समय से प्रदेश में चले हाईकोर्ट प्रकरण और सीबीआई जांच में नर्सिंग कॉलेजों की परीक्षाओं सहित तमाम महत्वपूर्ण कार्य प्रभावित हुए ।
गत दिवस हाईकोर्ट ने सीबीआई की बंद लिफाफा जांच रिपोर्ट को सार्वजनिक किया जिसमें सीबीआई ने मंदसौर जिले के चार निजी कॉलेज जिनमे मिरेकल नर्सिंग कॉलेज, डायमंड नर्सिंग कॉलेज, श्रीजी नर्सिंग कॉलेज और साईंनाथ नर्सिंग कॉलेज में नर्सिंग कॉलेज संचालन के लिए उपयुक्त व्यवस्थाएं पाई । ये चारों निजी कॉलेज शासन के नियमों पर खरा उतरे है इसलिए इन्हें सूटेबल श्रेणी में जबकि मंदसौर के शासकीय नर्सिंग कॉलेज में सुधार योग्य कमियां पाई है ।

गत दिवस आई हाईकोर्ट की इस रिपोर्ट के बाद नर्सिंग के विद्यार्थियों और कॉलेज संचालको में हर्ष की लहर है क्योंकि लम्बे समय से परीक्षा, परिणाम जैसे महत्वपूर्ण कार्य रुके हुए थे । सीबीआई जांच में जो कॉलेज अनुपयुक्त पाए गए उनके विद्यार्थियों का भविष्य अधर में होने के साथ संचालको पर भी एफआईआर दर्ज करवाई जाने जैसी सूचना है । क्योंकि हाईकोर्ट ने स्पष्ट कहा कि गलत कॉलेज में प्रवेश लेने के लिए विद्यार्थी स्वयं जिम्मेदार है ।

Admin
Author: Admin

Spread the love

यह भी पढ़ें

टॉप स्टोरीज