Dashpurdisha

Search
Close this search box.

Follow Us:

नेशनल रेफरी सेमिनार में 15 खिलाडियों ने हासिल किया नेशनल रेफरी की उपाधि

खेल में निर्णय देते समय रेफरियों का न कोई सगा होता है न कोई संबंधी होता है-श्री पुरोहित
मंदसौर । 6 जनवरी को रेवास देवडा रोड मंदसौर स्थित कौशल्या रिसोर्ट में जिला स्पोर्टस कराते एसोसिएशन मंदसौर के सहयोग एवं इंटरनेशनल क्योकोषिंकाई कराते एसोसिएशन ऑफ इंडिया के तत्वावधान में नेशनल रेफरी सेमिनार आयोजित किया गया जिसमें भारत के 15 खिलाडियों ने नेशनल रेफरी की उपाधि हासिल की । सभी अतिथियों ने नेशनल रेफरी सेमिनार में भाग लेने वाले खिलाड़ियों को नेशनल रेफरी प्रमाण पत्र उपाधि एवं स्मृति चिन्ह प्रदान किया ।

सेमिनार के मुख्य अतिथि दशपुर प्रेस क्लब अध्यक्ष और वरिष्ठ पत्रकार नेमीचंद राठौर, अध्यक्षता जी टीवी और एबीपी न्यूज के वरिष्ठ पत्रकार मनीष पुरोहित, विशेष अतिथि टाइम्स ऑफ मंदसौर के संपादक धर्मेन्द्रसिंह रानेरा एवं दशपुर दिशा समाचार पत्र के संपादक योगेश पोरवाल थे । प्रारंभ में अतिथियों का स्वागत एसोसिएशन के व्यवस्था प्रभारी विजय कोठारी, गगन कुरील, सैयद आफताब आलम, असलम खान, सुनील हीवे, अशोक गहलोत, कमलेश डोसी आदि द्वारा किया गया ।
इस अवसर पर दशपुर प्रेस क्लब अध्यक्ष नेमीचंद राठौर ने कहा कि खिलाडियों से ज्यादा रेफरियों का काम मुश्किल होता है । रेफरी पर सबकी नजर रहती है । रेफरी के एक गलत निर्णय से पूरे खेल का पासा पलट भी सकता है । रेफरी एक मैच के दौरान खेल के नियमों की व्याख्या और लागू करने के लिए जिम्मेदार होता है । वरिष्ठ पत्रकार मनीष पुरोहित ने कहा कि मध्यप्रदेश में प्रतिभाओं की कोई कमी नहीं है । रेफरी के कारण ही ताइक्वांडो जैसे कठिन खेल निष्पक्ष रूप से खेले जा रहे है । एक अच्छे रेफरी को खेल की सारी बारीकियों की पूर्ण जानकारी होना चाहिए । हार-जीत का निर्णय देते समय रेफरी यह कभी नहीं देखता कि सामने वाला कोई उसका सगा संबंधी है । उन्हें खिलाडियों के प्रदर्शन के आधार पर ही निर्णय देना पडता है । यही कारण है कि किसी भी खेल में रेफरियों और अम्पायरों की महत्वपूर्ण भूमिका होती है । पत्रकार धर्मेन्द्रसिंह रानेरा और योगेश पोरवाल ने भी सेमिनार को संबोधित कर खिलाडी से रेफरी बनने वालों को बधाई देते हुए उज्जवल भविश्य की कामना की । स्वागत उदबोधन व्यवस्था प्रभारी विजय कोठारी ने दिया । कार्यक्रम का संचालन गगन कुरील ने किया तथा आभार सैयद आफताब आलम ने माना ।

Admin
Author: Admin

Spread the love

यह भी पढ़ें

टॉप स्टोरीज