Dashpurdisha

Search
Close this search box.

Follow Us:

बिजली बिल स्थगित और माफी के मायाजाल में उलझे उपभोक्ताओं को लगा झटका

विद्युत कंपनी ने बिलों का भुगतान स्थगित किया गया है उसे उपभोक्ता बिल माफी मान रहे है

दशपुर दिशा । दीपक सोनी

जावरा । पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने अगस्त माह तक के लिए बिजली बिल माफ किए थे, केवल उन्हे स्थगित किए थे । किंतु उपभोक्ताओं ने ये समझ लिया की बिजली बिल माफ कर दिए गए है । मुख्यमंत्री की इसी घोषणा को विद्युत कंपनी उस समय तक के बिलों का भुगतान स्थगित करना मान रही है, तो उधर उपभोक्ता इन बिलों की माफी मानकर चल रहे और बिल की राशि जमा ही नहीं करी । स्थगित और माफी के इस मायाजाल में उलझे उपभोक्ताओं को अब कुछ सूझ ही नहीं रहा है, कि आखिर इस भारी भरकम राशि का इंतजाम कहां से और कैसे करें..? बहरहाल अब तो पुराना बकाया उपभोक्ताओं के बिल में जोड़कर दर्शाये जाने लगा है ।
विद्युत वितरण कंपनी के अधिकारियों का कहना है, कि दरअसल मुख्यमंत्री की घोषणा में माफी नहीं, बल्कि सितंबर तक के बिलों की राशि को वसूली स्थगित की गई थी । इससे भ्रम पैदा हो गया कि यह बिल माफ किए जा रहे हैं । हालांकि अभी कंपनी बिल में फिलहाल बकाया नहीं जोड़ रही है । अगर कहीं बिल में पुरानी बकाया राशि जुड़कर आ रही है तो वह हमें बताए । हम उसे दिखवाते हैं ।
उल्लेखनीय है कि नेताओं के लोक लुभावन वादों में कभी-कभी जनता ऐसी उलझती है कि जब तक सब कुछ समझ आता है, तब तक औंधे मुंह गिरकर ठगे जाने का एहसास होता है । कुछ ऐसा ही बिजली उपभोक्ताओं के साथ चुनाव पूर्व हुआ और अब चुनाव पश्चात उन्हें समझ ही नहीं आ रहा है कि भारी भरकम बिलों का भुगतान कैसे करें..? दरअसल उपभोक्ता स्थगित और माफी दो शब्दों के माया जाल में फंस गए और पता नहीं उन्हें राहत मिलेगी भी या नहीं ।
दरअसल आचार संहिता लगने के पहले पूर्व मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान ने घोषणा की थी कि सितंबर 2023 तक के बिजली उपभोक्ताओं के बकाया बिल अभी न भरें । बस यही बात लोग समझ नहीं पाए । ज्यादातर उपभोक्ताओं ने सितंबर तक के बिल और पुराना बकाया भरने से रोक दिया । अब जब चुनाव निपटे तो कई उपभोक्ताओं के बिल में पुरानी राशि भी जुड़कर आने लगी ।

Admin
Author: Admin

Spread the love

यह भी पढ़ें

टॉप स्टोरीज