Dashpurdisha

Search
Close this search box.

Follow Us:

विधायक ने श्री खाटू श्याम मंदिर ट्रस्ट के ट्रस्टी पद से दिया इस्तीफा

ट्रस्ट और भक्तों के बीच चल रहे विवाद को लेकर ट्रस्ट अध्यक्ष को लिखा पत्र

विधायक ने पत्र में लिखा कि किसी एक निजी ट्रस्ट की कार्य प्रणाली पर यदि किसी को कतिपय मुद्दों पर आपत्ति है, तो कलेक्टर किसी अधिकारी को नियुक्त करें । इस हेतु मैं कलेक्टर को अवगत करा दूंगा ।

मंदसौर । विधायक यशपाल सिंह सिसोदिया ने श्री खाटू श्याम मंदिर ट्रस्ट के ट्रस्टी पद से इस्तीफा दे दिया है और ट्रस्ट अध्यक्ष श्री शिवकरण प्रधान को पत्र लिखकर ट्रस्टी पद से मुक्त किए जाने की बात कही है ।
विधायक यशपाल सिंह सिसोदिया द्वारा लिखे गए पत्र में कहा गया कि विगत दो-तीन माह से श्री खाटू श्याम मंदिर के कतिपय भक्तजनों एवं ट्रस्ट के मध्य कुछ मुद्दों पर मतभेद, सामान्य शिष्टाचार में कमी तथा स्थिति के चलते सामान्य संवाद एवं संपर्क की कमी के कारण संबंधों में विरोध की लकीरें दिखाई दे रही हैं । क्योंकि मैं राजनीतिक क्षेत्र में भी दल तथा जनप्रतिनिधि की भूमिका में भी हूं । ऐसे में सारे घटनाक्रम में कुछ लोगों ने विवादों के चलते मुझे निशाना बनाने की कोशिश करते हुए मेरी छवि को धूमिल करने का प्रयास किया है ।
आप जानते हैं कि ट्रस्ट के निर्णय किन्हीं भी मुद्दों पर सर्वसम्मति से होते हैं । दिनांक 16 अगस्त 2023 को मेरे निवास स्थान पर लगभग डेढ़ घंटे आपकी मौजूदगी में तथा वे श्रद्धालु भक्त जो कुछ मुद्दों पर असहज और असहमत हैं, उनके साथ मैंने निरंतर चर्चा की। मेरे सुझाव पर आपने उनकी कुछ बातों को स्वीकार करते हुए उन्हें संतुष्ट करने की कोशिश भी की । आपकी मौजूदगी में मैंने दोनों पक्षों को सुना और आपस में समन्वय सामंजस्य बना रहे, इसकी पहल भी की ।
चर्चा उपरांत में इस नतीजे पर पहुंचा हूं कि मुझे आपने एवं अन्य सहयोगियों ने ट्रस्टी के रूप में मनोनीत किया था, मैं उससे मुक्त होना चाहता हूं । कृपया निर्णय करें । साथ ही कुछ मुद्दे ऐसे हैं, जिनका द्विपक्षीय वार्ता में निराकरण नहीं हो पाया, ऐसे प्रमुख बिंदुओं के लिए मैं कलेक्टर को अवगत कराते हुए उन मुद्दों का निराकरण समन्वय संवाद के माध्यम से एवं किसी एक निजी ट्रस्ट की कार्य प्रणाली पर यदि किसी को कतिपय मुद्दों पर आपत्ति है, तो कलेक्टर किसी अधिकारी को नियुक्त करें । इस हेतु मैं कलेक्टर को अवगत करा दूंगा ।
मेरा विनम्र आग्रह होगा कि हिंदू संस्कृति और धर्म की आस्था अक्षुण्ण बनी रहे तथा मंदिर की पवित्रता, मंदिर परिसर में अनुशासन बना रहे एवं किसी भी प्रकार की अ-संवाद की स्थिति ना हो ।

Admin
Author: Admin

Spread the love

यह भी पढ़ें

टॉप स्टोरीज