Dashpurdisha

Search
Close this search box.

Follow Us:

हिंदी माध्यम के विद्यार्थी UPSC की तैयारी कैसे करें? जानिए संस्कृति IAS Coaching सेंटर से

IAS Coaching

UPSC की तैयारी करना और उसे पास करना हर एक छात्र का सपना होता है। UPSC की तैयारी हिंदी माध्यम में करने वाले छात्रों का सिलेक्शन कम इसलिए भी रहता क्योंकि उनके पास मार्गदर्शन की कमी रहती है और उचित अध्ययन सामग्री तक उनकी पहुँच नहीं होती। हम बात कर रहे हैं उन छात्रों की जो UPSC की तैयारी के दौरान संघर्ष करते हैं। हमारे पत्रकारों के बेहद प्रचलित IAS coaching सेंटर संस्कृति IAS जो लगातार हिंदी माध्यम के छात्रों की पहली पसंद बन चूका है से बातचीत करके पता लगाया है की कैसे वे अपने हिंदी माध्यम के छात्रों को मार्गदर्शन देते हैं।

IAS Coaching
IAS Coaching

हिंदी माध्यम के छात्रों के लिए संस्कृति IAS Coaching सेंटर की सलाह

आयोग, सिविल सेवा परीक्षा दो भाषाओं (हिंदी एवं अंग्रेजी) में आयोजित कराता है। यद्यपि हिंदी एवं अंग्रेजी से चयनित अभ्यर्थियों की संख्या में कुछ अंतर देखने को मिलता है। प्रश्न उठने स्वाभाविक हैं कि हिंदी माध्यम से तैयारी कर रहे अभ्यर्थियों में क्या कमी रह जाती है? दूसरा प्रश्न है, तैयारी कर रहे अभ्यर्थियों को किन बातों को ध्यान में रखने की आवश्यकता है?

हिंदी माध्यम के अभ्यर्थियों में क्या कमियां रह जाती हैं?

  • हिंदी माध्यम के अधिकांश अभ्यर्थी ग्रामीण पृष्ठभूमि से जुड़े होते है। जहाँ उन्हें स्कूलिंग की बेहतर व्यवस्था नहीं मिली होती है।
  •  आज भी ग्रामीण एवं शहरी शिक्षा व्यवस्था के मध्य अन्तराल देखने को मिलता है।
  • ग्रामीण अभ्यर्थियों में प्रायः ऐसी प्रवृत्ति कम देखने को मिलती है कि प्रशासनिक सेवाओं में जाना उनका बचपन का सपना रहा है।
  • तर्क शक्ति के विकास के उपयुक्त माहौल नहीं मिला होता है।
  • कमजोर मूल्यांकन के कारण लेखन में कुछ कमियां रह जाती है।
  • किताबों की अनुपलब्धता के कारण पर्याप्त समझ विकसित नहीं हो पाती है और रीडिंग स्किल भी कमजोर रह जाती है।

हिंदी माध्यम से तैयारी कर रहे अभ्यर्थियों के लिए कुछ महत्वपूर्ण बातें-

  • अभ्यर्थियों को भाषा में पकड़ मज़बूत बनानी चाहिए।
  • वाक्य विन्यास, वर्तनी अशुद्धि, भाषा प्रवाह का विशेष ध्यान रखें। चूँकि ये कमियां हमारे ज्ञान की कीमत कम कर देती हैं।
  • तैयारी की शुरुआत में पाठ्यक्रम के अनुसार NCERT का अध्ययन अवश्य कर लें। ताकि अध्ययन का आधार मजबूत हो जाए।
  • भले ही माध्यम हिंदी है, अंग्रेजी में भी थोड़ी सहजता लाएं। जो निश्चित तौर से प्रारंभिक परीक्षा में 4 से 5 प्रश्नों की बढ़ोत्तरी दिलाएगा।
  • पढ़ने की आदत डालें ताकि प्रारंभिक परीक्षा के सभी प्रश्नों तक पहुँच सकें।
  • लिखित एवं मौखिक दोनों अभिव्यक्ति पक्ष मजबूत करें।
  • लेखन में तीव्रता लाएं चूँकि कम समय में अधिक प्रश्नों के जवाब देने होते हैं। हिंदी माध्यम में दिए समय में सभी प्रश्न हल न हो पाने का खतरा बना रहता है।
  • प्रारंभिक परीक्षा के प्रश्नों का खूब अभ्यास करें। ये आपके ज्ञान को पैना करेगा और परीक्षा में आ रहे नवीन प्रश्नों को हर कर पाना सहज हो जाएगा।
  • एक विश्वसनीय कोचिंग संस्था से जुड़ जाए ताकि एक ही जगह से सफलता प्राप्ति के अंतिम क्षण तक मार्गदर्शन मिलता रहे।

    ये उपर्युक्त कुछ प्रयास हैं, जो हिंदी माध्यम के अभ्यर्थियों की सफलता दर को बढ़ाएंगे।

अगर आप विस्तृत रूप से मार्गदर्शन चाहते हैं तो संस्कृति IAS Coaching सेंटर से सलाह ले सकते हैं।

Address: Sanskriti IAS Coaching

 

Admin
Author: Admin

Spread the love

यह भी पढ़ें

टॉप स्टोरीज